भारतीय प्रशासन की विशेषताएं – भारत में लोक प्रशासन की विशेषताएं

0
594
भारतीय प्रशासन की विशेषताएं
भारतीय प्रशासन की विशेषताएं

भारतीय प्रशासन की विशेषताएं – लोक प्रशासन की विशेषताएं

भारतीय प्रशासन ब्रिटिशों की देन है क्योंकि उनके द्वारा प्रचलित कई सारी प्रथाएं आज भी भारतीय प्रशासन में प्रचलित है। यूं ही कहा जा सकता है कि कई कानून जो उन्होंने बनाए थे आज भी भारतीय प्रशासन में प्रचलित है।

अगर हम भारतीय प्रशासन की विशेषताओं की बात करें तो भारतीय प्रशासन में अनेक प्रकार की विशेषताएं पाई जाती है जिनमें से इसकी बहुत सी विशेषताएं अच्छी भी है और बहुत सी विशेषताएं ऐसी है जिनको बदलाव की जरूरत है।

जैसे लालफीताशाही की विशेषता भारतीय प्रशासन में आज भी पाई जाती है जिस कारण किसी एक फाइल को कई दफ्तरों के चक्कर पड़ते हैं जो कि किसी भी प्रशासन के लिए आज के समय में अच्छी बात नहीं है, लेकिन इसके अलावा भी भारतीय प्रशासन की कुछ अच्छी विशेषताएं भी है जैसे विकेंद्रीकरण की व्यवस्था पर आधारित प्रशासन आदि इन सब के बारे में हम आपको आगे विस्तार में बताएंगे।

भारतीय प्रशासन तथा उनके आयामों के विषय में लिखिए

परिवर्तनशील प्रवृति

भारतीय प्रशासन की प्रवृति परिवर्तनशील है और इसमें समय समय पर परिवर्तन किये जाते जाते है। अगर ऐसा समय आता है जब भारतीय प्रशासन में कुछ सिद्धांतो को बदलने की जरूरत महसूस हो रही हो तो भारतीय प्रशासन आसानी से उन परिवर्तनों को अपना लेता है जीका कारण इसकी परिवर्तनशील प्रवृति है।

विकास पर आधारित प्रशासन 

भारतीय प्रशासन विकास के ऊपर आधारित प्रशासन है। भारतीय प्रशासन का मुख्य उद्देश्य विकास करना तथा लोक सेवा करना है।

समाजिक तथा आर्थिक न्याय

भारतीय प्रशासन की एक प्रमुख विशेषता यह भी है कि इसका लक्ष्य सामाजिक आर्थिक न्याय करना भी है। भारतीय प्रशासन समाज के कमजोर वर्गों के समाजिक तथा आर्थिक हितों की रक्षा करता है, उनके विकास के लिए कार्य करता है। भारतीय प्रशासन समाज में सबको एक बराबर नजर से देखता है इसकी नजर में कोई छोटा बड़ा नहीं है।

पदसोपान के सिद्धांत पर आधारित प्रशासन – पहले हम बात करेंगे की पदसोपान का सिद्धांत है क्या –

पदसोपान क्या है ?

जब बड़े अधिकारी अपनी शक्तियों ओर कार्यों का बंटवारा अपने से नीचे के कर्मचारियों के साथ करते है तो उसे पदसोपान कहते है।

भारतीय प्रशासन भी पदसोपान क सिद्धांत पर ही आधारित है। जब भी आप भारत में किसी सरकारी दफ्तर में जाते होंगे तो आपने यह देखा होगा कि वहां पर पहले कोई उच्च अधिकारी होता है उसके नीचे एक और अधिकारी है उसके नीचे फिर क्लर्क होता है उसके नीचे एक अधिकारी और होता तो इस प्रकार से भारतीय प्रशासन में भी पदसोपान के सिद्धांत के आधार पर ही कार्य किया जाता है।

जैसे भारत में पुलिस प्रशासन में रैंक्स के आधार पर पुलिस कर्मचारी नियुक्त होते है जोकि पदसोपान के सिद्धांत पर आधारित है।

समान्यवादी और विशेषज्ञों से युक्त प्रशासन 

भारतीय प्रशासन सामान्यवादी हैं और भारतीय प्रशासन में विशेषज्ञों की बहुतायत है जिस कारण भारतीय प्रशासन और अधिक अच्छे से कार्य करता है।

लोकतांत्रिक व्यवस्था पर आधारित प्रशासन

भारतीय प्रशासन लोकतांत्रिक व्यवस्था पर आधारित प्रशासन है जिसका प्रमुख कारण है कि भारत स्वयं में एक लोकतांत्रिक देश है और भारत में हर कार्य संविधान के अनुसार किया जाता है जिस कारण भारत का प्रशासन भी लोकतंत्र की व्यवस्था के अनुसार ही कार्य करता है। जिसमें समाज के विकास के लिए कार्य किया जाता है तथा सबको समान समझा जाता है और समय-समय परिवर्तन किए जा सकते हैं।

लालफीताशाही पर आधारित प्रशासन 

भारतीय प्रशासन में लालफीताशाही पाई जाती है जिसका अर्थ है कि यह एक कठोर प्रशासन है तथा इसमें कार्य को पूरा करने में बहुत अधिक समय लग जाता है। आपने अक्सर देखा होगा कि जब हम सरकारी दफ्तरों में कोई काम करने जाते हैं, तो फाइल को कई दफ्तरों के चक्कर काटने पड़ते हैं और इसीलिए भारतीय प्रशासन लालफीताशाही पर आधारित है।

विकेन्द्रीकृत व्यवस्था पर आधारित प्रशासन 

भारतीय प्रशासन विकेंद्रीकृत व्यवस्था पर आधारित है जिसमें भारतीय प्रशासन में किसी कार्य को करने के लिए आपको एक जगह नहीं जाना पड़ता आपको अपना हर कार्य करने के लिए अलग-अलग केंद्र मिल जाएंगे।

भारतीय प्रशासन को किसी एक केंद्र से बैठकर नहीं चलाया जाता जिस कारण भारतीय प्रशासन एक विकेंद्रीकृत व्यवस्था पर आधारित है क्योंकि इसके लिए अलग-अलग जगहों पर भारतीय प्रशासन के केंद्र बनाए गए हैं जिनमें सरकारी कर्मचारियों को नियुक्त किया गया है जो प्रशासन को चलाने का कार्य करते हैं।

प्रशासनिक एकरूपता 

भारतीय प्रशासन में प्रशासनिक एकरूपता पाई जाती है क्यूंकि भारतीय प्रशासन में सबको एक समान समझा जाता है।

इसके अलावा भारतीय प्रशासन की बहुत सारी विशेषताएं हैं। हम अपने आसपास कई ऐसे कार्य होते देखते हैं कि जो भारतीय प्रशासन द्वारा किए जाते हैं। हमारे प्रतिदिन के बहुत से कार्य प्रशासन के द्वारा ही पुरे किये जाते है जैसे पानी, बिजली आदि।

हम आशा करते हैं कि आपको हमारा यह लेख कि भारतीय प्रशासन की क्या-क्या विशेषताएं हैं पसंद आया होगा और अगर आपको किसी भी प्रकार का कोई सवाल पूछना हो तो आप कमेंट बॉक्स में हो पूछ सकते हो।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here