लोक प्रशासन के कार्य और महत्व 2022 – lok prashasan ke karya

कंपनी का शासन

कंपनी का शासन

लोक प्रशासन के कार्य और महत्व – lok prashasan ke karya

वर्तमान समय में यदि हम lok prashasan ke karya का वर्णन करें तो लोक प्रशासन का मुख्य कार्य सामाजिक, आर्थिक एवं राजनीतिक विकास है लेकिन लोक प्रशासन के यह कार्य स्वयं में ही अपना बहुत विस्तृत रूप देखकर चलते हैं।

वैसे अगर हम इस टॉपिक को सिर्फ एक लाइन में खत्म करना चाहे तो इसका सीधा सा उत्तर होगा कि लोक प्रशासन का कार्य लोक कल्याण के लगभग सभी कार्य करना है। लोक प्रशासन के कार्यों का वर्णन हम भारत का उदाहरण लेकर करेंगे कि किस प्रकार भारत जैसे लोकतांत्रिक देश में वर्तमान समय में धीरे-धीरे लोक प्रशासन का महत्व बढ़ रहा है।

वर्तमान समय में लोक प्रशासन का कार्य केवल प्रशासन को सुचारू रूप से चलाने तक ही सिमित नहीं रह गया अपितु लोक प्रशासन का कार्य बहुत विस्तृत हो चुका है किसी व्यक्ति के जन्म से लेकर उस व्यक्ति की मृत्यु तक लोक प्रशासन का महत्व रहता है और मनुष्य सुबह से शाम तक प्रशासन के सहारे ही अपने सभी कार्य पूरे करता है।

नोट – हमारे द्वारा कही गई बातें मंघड़ंत नहीं है हम सब तथ्यों के आधार पर बोल रहे हैं जिनको आगे हम उदाहरण सहित समझाने वाले हैं।

लोक प्रशासन के कार्य

जनता के कार्य तथा लोक प्रशासन –

भारत दुनिया का सबसे बड़ा लोकतांत्रिक देश होने के साथ-साथ सबसे अधिक जनसंख्या वाले देशों में से एक है जिस कारण भारत में लोक प्रशासन का महत्व बहुत अधिक है।

जिस समय किसी मनुष्य का जन्म होता है उसी समय प्रशासन का कार्य शुरू होता है और जब मनुष्य की मृत्यु होती है तब प्रशासन का उस व्यक्ति के लिए कार्य खत्म होता है या हम यह भी कह सकते हैं कि उसके पश्चात भी प्रशासन उसके लिए कार्य करता रहता है।
उदाहरण के लिए यदि किसी बच्चे का जन्म होता है तो उसकी मां की देख रेख के लिए चिकित्सा उपलब्ध करवाना उस बच्चे का जन्म प्रमाण पत्र बनवाना और जब वह बच्चा बड़ा हो तो उसे स्कूल में शिक्षा देना।

उसे जब नौकरी लगती है तो प्रशासन उसके लिए अलग-अलग सर्टिफिकेट आदि की सुविधा प्रदान करता है और जब किसी व्यक्ति की मृत्यु होती है तो उसके पश्चात उसकी सारी संपत्ति को उसके परिजनों को देना आदि। इस प्रकार हम कह सकते हैं कि प्रशासन का कार्य किसी व्यक्ति के जन्म से लेकर उस व्यक्ति की मृत्यु के पश्चात तक रहता है।

मानव कल्याण के कार्य तथा लोक प्रशासन – वर्तमान समय में लोक प्रशासन मानव कल्याण के लिए अनेकों कार्य करता है। कई विचारको का मानना मानना है कि वर्तमान समय में लोक प्रशासन का कार्य अधिक से अधिक लोगों का अधिक से अधिक भला करना है और उसका यही एक लक्ष्य बन गया है।

एल डी white के अनुसार “लोक प्रशासन से राज्य के सभी लोगों के कल्याण की मांग की जाती है। ”

लोक प्रशासन का उद्देश्य लोक हित के लिए कार्य करना तथा इस उद्देश्य की प्राप्ति करना है। वर्तमान समय में जैसे-जैसे लोगों के अंदर जागरूकता बढ़ रही है वैसे-वैसे ही लोक प्रशासन का महत्व और अधिक बढ़ रहा है। महत्व बढ़ने के साथ ही लोक प्रशासन के कार्य भी बहुत अधिक बढ़ गए हैं चाहे फिर वह कार्य राजनीतिक व आर्थिक हो या समाजिक हो।

सरकारी योजनाएं तथा लोक प्रशासन –

वर्तमान समय में किसी भी देश की सरकार आए दिन आम जनता के लिए तरह-तरह की योजनाएं बनाती रहती है लेकिन योजनाओं को बनाना एक अलग बात है और योजनाओं को कार्यान्वित करना एक अलग बात। योजनाओं को जमीनी स्तर पर लाकर कार्यान्वित करना लोक प्रशासन का ही कार्य होता है लोक प्रशासन आम जनता को सरकार की योजनाओं के बारे में बताता है।

लोक प्रशासन से अभिप्राय एक ऐसे संगठन से हैं जो लोगों की भलाई के लिए कार्य करते हैं और यह प्रशासन सरकार द्वारा कार्यान्वित होता है या इसे हम सरकारी प्रशासन भी कहते है।

वर्तमान समय में लोक प्रशासन का महत्व सरकार के द्वारा संचालित सभी अंगों से बढ़कर है जिसका प्रमुख कारण है कि किसी भी देश में गंभीर प्रकृति के कार्यों को पूरा करने का उत्तरदायित्व लोक प्रशासन पर ही आता है वर्तमान कल्याणकारी राज्यों में या देशों में नई-नई सेवाओं या योजनाओं को बनाया जाता है।

जिनको सफलता दिलाने के लिए लोक प्रशासन की कमी महसूस की जाती है इसी कारण लोक प्रशासन को वर्तमान समय में इतनी महत्वता दी जाती है। विकासशील देशों में लोक प्रशासन का विशेष महत्व इसलिए भी बढ़ जाता है क्योंकि इन देशों की आर्थिक सामाजिक तथा राजनीतिक समस्याओं का समाधान तथा प्रगति लोक प्रशासन पर ही निर्भर करती है। अतः हम कह सकते हैं कि एक कुशल लोक प्रशासन ही किसी भी राज या देश की समस्याओं को दूर कर सकता है और उस राज्य का विकास कर सकता है।

वर्तमान समय में यदि लोक प्रशासन के महत्व तथा कार्य को देखा जाए तो आज के समय लोक प्रशासन विधानपालिका कि कानून बनाने तथा नीतियां निश्चित करने में भी सहायता करता है और इन्हीं नीतियों को कार्यपालिका के अंग के रूप में सफल बनाने में योगदान भी देता है तथा न्यायपालिका के न्याय निर्णयों को कृति में बदलता है या उसको एक प्रशासनिक रूप देता है।

इसलिए यह कहना सही होगा कि लोक प्रशासन सरकार का एक पूर्ण अंग है तथा आधुनिक प्रजातंत्र में इसका अध्ययन भी बहुत महत्वपूर्ण है। लोक प्रशासन के बिना कोई भी राज्य अधूरा है तथा लोक प्रशासन के बिना किसी भी राज्य का विकास होना लगभग नामुमकिन है।

इसके अतिरिक्त लोक प्रशासन के बहुत से कार्य हैं जैसे कानून व्यवस्था को बनाए रखना तथा राज्य की आर्थिक विकास में सहायता करना प्रजातंत्र को बनाए रखना इसके साथ ही लोक प्रशासन आज के समय में नागरिकों के मौलिक अधिकारों का रक्षक भी है इसी के साथ लोक प्रशासन समाज में एकरूपता बनाए रखने में भी सहायता करता है और सामाजिक परिवर्तन की एक प्रेरक शक्ति के रूप में कार्य करता है।

लोक प्रशासन युद्ध मैं राज्य तथा आम जनता की सहायता करता है तथा प्राकृतिक आपदाओं के समय भी लोक प्रशासन ही आगे आकर सबकी मदद करता है इस प्रकार से हम कह सकते हैं कि लोक प्रशासन के कार्य निश्चित नहीं है स्थितिओं के अनुसार लोक प्रशासन के कार्य बदलते रहते हैं अतः लोक प्रशासन के कार्य बहुत विस्तृत है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.